16 लाख लोगों ने सागर में लगायी आस्‍था की डूबकी

दिखा मिनी कुंभ का नजारा, कपिलमुनि आश्रम में हुईं पूजा-अर्चना

राज्य भर में पूरी आस्था के साथ मना मकर-संक्रांति

सन्मार्ग संवाददाता

सागर/कोलकाता : मकर-संक्रांति के मौके पर शनिवार को गंगासागर में 16 लाख से अधिक तीर्थयात्रियों ने आस्था की डुबकी लगायी। इस मौके पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गये थे ताकि श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की असुविधा का सामना नहीं करना पड़े। लोगों ने गंगासागर में डुबकी लगाने के बाद यहां कपिलमुनि आश्रम में जाकर पूजा-अर्चना की। शुक्रवार की देर रात करीब 1.40 बजे से ही लोगों को स्नान करते देखा गया। शनिवार को सबसे कड़ाके की ठंड वाला दिन होने के बावजूद लोगों की आस्था नहीं डगमगायी तथा यहां आये लोगों ने सागर में पावन डुबकी लगायी। यहां पर लोगों को कहते सुना गया कि सब तीर्थ बार-बार…गंगा सागर एक बार…। देश के विभिन्न हिस्सों से आये साधु-संतों ने कहा कि मकर-संक्रांति के दिन गंगासागर में स्नान का भी विशेष महत्व होता है। यह परंपरा सालों से चली आ रही है। हर साल यहां लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है। वहीं यूपी व बिहार सहित अन्य राज्यों से आये लोगों ने कहा कि नदियों में सबसे पवित्र गंगा, गंगोत्री से निकल कर बंगाल के सागर में मिलती है, इसीलिए इसे गंगासागर कहते हैं। सागरद्वीप में आयोजित होने वाले मेले गंगासागर मेला का अपना ही महत्व है। वहीं सागर आयीं कुछ घरेलू महिलाओं ने बताया कि हिन्दू धर्मग्रन्थों में यह कहा गया है कि यह एक मोक्षधाम है क्योंकि यहां डुबकी लगाने से मोक्ष प्राप्त होता है इसलिए मकर संक्रांति के मौके पर दुनिया भर से लाखों श्रद्धालु मोक्ष की कामना लेकर यहां आते हैं और सागर-संगम में पुण्य की डुबकी लगाते हैं। इस मौके पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कई मंत्रियों को वहां निगरानी रखने हेतु भेजा है। पंचायत मंत्री सुब्रत मुखर्जी ने बताया की शनिवार तक करीब 16 लाख श्रद्धालु गंगासागर में पुण्य स्नान करने पहुंच चुके थे। यहां पर स्नान करने आने वालों में बिहार-यूपी से सबसे अधिक लोग आए। इसके अलावा साधुओं तथा संतों के आने से यहां मिनी कुंभ का नजारा देखने को मिला। प्रशासनिक इंतजामों के अलावा कुछ स्वयंसेवी संस्थाओं के कर्मी भी श्रद्धालुओं की सहायता के लिये सदैव तत्पर नजर आये। मेला परिसर में राज्य के कुछ मंत्री व जिला प्रशासन के आला अधिकारी मौजूद रह कर स्थितियों पर निगरानी रख रहे हैं। इस दौरान यहां एक बुजुर्ग के बीमार हो जाने के बाद उसे कोलकाता हेलिकॉप्टर से लाया गया।

सीसीटीवी व ड्रोन से रखी गयी निगरानी

दक्षिण 24 परगना जिले की पुलिस ने किसी प्रकार की गड़बड़ी से बचने के लिए पूरी व्यवस्था कर रखी थी। सागर में 9000 पुलिस कर्मियों तथा वॉलेंटियरों को तैनात किया गया था। इसके अलावा 165 सीसीटीवी भी लगाए गये थे जो कि मुख्य तथा भीड़भाड़ वाले स्थानों पर नजर रखे हुए थे। इसके साथ ही ड्रोन व 20 जहाजों की मदद से भी निगरानी रखी गयी थी। इसमें कोस्ट गार्ड के भी जहाज थे। इस बार गंगासागर मेले की थीम ग्रीन एंड क्लीन रखा गया था तथा इसके लिए राज्य सरकार द्वारा 10,000 शौचालयों की व्यवस्था की गयी थी। इस मौके पर कपिलमुनि आश्रम के मंहत ज्ञानदास ने अगले वर्ष होने वाले गंगासागर मेले के आयोजन का कार्यभार संजय दास को सौंपा तथा कहा कि संजय दास गंगासागर में होने वाले मेले का काम संभालेंगे। उन्होंने यहां लगने वाले मेले को राष्ट्रीय मेला घोषित करने की भी मांग की।

नदियों व तालाबों में भी श्रद्धालुओं ने लगायी डुबकी

वहीं राज्य के अन्य हिस्सों में भी लोगों ने नदियों व तलाबों में डुबकी लगायी। हिन्दू मान्यताओं के मुताबिक इस दिन तिल का दान करने से पुण्य मिलता है। साथ ही श्रद्धालुओं ने गरीबों में कपड़े, तिलकुट और लड्डू बांटे। इस मौके पर गंगा किनारे काफी भीड़ देखी गयी। इस मौके पर दक्षिणेश्वर तथा कालीघाट आदि स्थानों पर हजारों की संख्या में भीड़ उमड़ी।

Leave a Reply

अन्य समाचार

अखिलेश को मिली ‘साइकिल’

* सपा के दंगल में बेटे ने बाप को दी पटखनी * मुलायम की ओर से दावे के समर्थन में कोई हलफनामा नहीं * 208 विधायक और 15 सांसदों के साथ अखिलेश गुट की असली सपा नयी दिल्ली (दिल्ली ब्यूरो [Read more...]

फिल्मफेयर पुरस्कार में छाये रहे आमिर और आलिया

‘दंगल’ सर्वश्रेष्ठ फिल्म मुंबई : सुपरस्टार आमिर खान को 62वें जियो फिल्मफेयर पुरस्कारों में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का सम्मान मिला जबकि उनकी फिल्म ‘दंगल’ साल की सर्वश्रेष्ठ फिल्म घोषित हुई। सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का पुरस्कार ‘दंगल’ के लिए नीतेश तिवारी को मिला। यह [Read more...]

मुख्य समाचार

उपर