प्रायोजको को बांग्लादेश के क्रिकेटरों पर विश्वास लेकिन मुक्केबाज मनोज पर नहीं

नयी दिल्ली : रियो जाने वाले ओलंपिक दल के सदस्य मनोज कुमार से छह साल पहले पदोन्नति का वादा किया गया था जो उन्हें अभी तक नहीं मिला है और उनके पास कोई प्रायोजक भी नहीं है लेकिन इस मुक्केबाज ने खेल छोड़ने के बारे में विचार नहीं किया। इस मुक्केबाज का कहना है कि उनकी जिद ने उन्हें ऐसा करने से रोके रखा है। रियो ओलंपिक के लिये शिव थापा (56 किग्रा) और विकास कृष्ण (75 किग्रा) समेत तीन भारतीय मुक्केबाजों ने क्वालीफाई किया है जिसमें मनोज को छुपारूस्तम कहा जा सकता है। वेल्टरवेट वर्ग में भाग लेने वाले मनोज (64 किग्रा) ने कहा कि मेरी जड़े मराठों से जुड़ी हैं और मैं शिवाजी से काफी प्रेरित हूं, जिससे मैं काफी मजबूत हूं और इतना जिद्दी भी हूं। इस अड़ियलपन ने ही मुझे परिस्थितियों से लड़ने में मदद की। वह जिन परिस्थितियों का जिक्र कर रहे हैं, इसमें विभाग से मिलने वाली पदोन्नति का इंतजार शामिल है जो उन्हें 2010 राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतने के बाद किया गया था। वह भारतीय रेल में तीसरे दर्जे के कर्मचारी हैं, उन्हें तब की केंद्रीयमंत्री ममता बनर्जी ने तरक्की देने का वादा किया था। उस वादे के बाद सात मंत्री इस पद पर आ-जा चुके हैं लेकिन मनोज की स्थिति जस की तस है। मनोज ने कहा कि मैंने इसके बारे में सभी को लिखा है। मुकुल राय से लेकर मौजूदा मंत्री सुरेश प्रभु तक। मुझसे प्रत्येक ने कार्रवाई करने का वादा किया है लेकिन जमीनीं स्तर पर कुछ नहीं हो रहा। उन्होंने कहा कि जहां तक प्रायोजकों की बात है तो मैंने मदद के लिये सभी बड़ी कंपनियों को लिखा है लेकिन शायद सभी को लगता है कि मैं इतनी दूर तक नहीं जा सकता। इसलिये उनसे भी कोई जवाब नहीं मिला है। मेरे पास मेरे बारे में बात करने के लिये कोई नहीं है इसलिये यह भी हमेशा मेरे विरूद्ध ही जाता रहा है। यह पूछने पर कि इतनी मुश्किलों के बाद भी उन्होंने मुक्केबाजी को छोड़ने का विचार नहीं किया तो मनोज ने कहा कि एक सेकेंड के लिये भी नहीं। लोगों को गलत साबित करने में काफी मजा आता है, अब मैं अपने बारे में अच्छा महसूस करता हूं। मैंने किसी के समर्थन के बिना यह सब हासिल किया है, सिर्फ मेरे पास मेरे कोच और बड़े भाई राजेश साथ हैं। हरियाणा के एथलीटों को राज्य सरकार से काफी मदद मिलती है तो वह इससे कैसे महरूम रह गये। उन्होंने कहा कि शायद इसलिये क्योंकि मैं लोगों के आगे झुक नहीं सकता। मैं अपने दिल की बात कहता हूं, मैं किसी को खुश रखने की कोशिश नहीं करता। पता नहीं, इस देश में और यहां तक कि बांग्लादेश के क्रिकेटरों को भी प्रायोजक मिल जाते हैं लेकिन मेरे जैसे लोगों को नहीं, पता नहीं क्यों? क्या हम बुरे हैं? यह मेरे बस की बात नहीं है। ’

Leave a Reply

अन्य समाचार

अखिलेश को मिली ‘साइकिल’

* सपा के दंगल में बेटे ने बाप को दी पटखनी * मुलायम की ओर से दावे के समर्थन में कोई हलफनामा नहीं * 208 विधायक और 15 सांसदों के साथ अखिलेश गुट की असली सपा नयी दिल्ली (दिल्ली ब्यूरो [Read more...]

फिल्मफेयर पुरस्कार में छाये रहे आमिर और आलिया

‘दंगल’ सर्वश्रेष्ठ फिल्म मुंबई : सुपरस्टार आमिर खान को 62वें जियो फिल्मफेयर पुरस्कारों में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का सम्मान मिला जबकि उनकी फिल्म ‘दंगल’ साल की सर्वश्रेष्ठ फिल्म घोषित हुई। सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का पुरस्कार ‘दंगल’ के लिए नीतेश तिवारी को मिला। यह [Read more...]

मुख्य समाचार

जम्मू के कुछ हिस्सों में कर्फ्यू में ढील

जम्मूः जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में हुए आतंकवादी हमले को लेकर शहर में बड़े पैमाने पर पाकिस्तान विरोधी प्रदर्शनों एवं हिंसा की छिट-पुट घटनाओं के बाद शुक्रवार को लगाए गए कर्फ्यू से अधिकारियों ने सोमवार को [Read more...]

Back series GDP data: Former CEA Arvind Subramanian calls for review by experts to clear doubts

Amid raging controversy over the revised economic growth numbers, former Chief Economic Adviser (CEA) Arvind Subramanian has called for an investigation by experts to clear doubts and build confidence while noting that the “puzzle” about the data needs to be [Read more...]

उपर